Links

Mobile Application

https://play.google.com/store/apps/details?id=jain.dharm.poems

Many apps on link : Chehakti Chetna & Jain Dharm Prabhavna

 सभी को शुद्धात्म वंदन, आप सभी को बताते हुए अत्यंत हर्ष हो रहा है कि पाठशाला खोलो अभियान प्रगति पर है। यह अभियान स्वतंत्र रूप से चल रहा है। इसका उद्देश्य पूरे भारत वर्ष की पाठशाला के अध्यापकों को एक जगह एकत्रित करना है। हम ऐसा इसलिए करना चाहते हैं ताकि सभी एक दूसरे से अपने विचार , अपने सांस्कृतिक कार्यकम और गतिविधियां बांट सकें । इससे दो फायदे होंगें पहला आपकी पाठशाला की प्रभावना होगी और दूसरा औरों को नए सुझाव मिलेंगे , और पूरे देश की जानकारी हमें प्राप्त होती रहेगी । इससे सभी जैन पाठशालाओं का प्रचार प्रसार होगा , इससे लोगों को पाठशाला की महिमा आएगी और अपने बच्चों को पाठशाला भेजने की प्रेरणा मिलेगी । इस ग्रुप से जुड़े लोगों से हम उनके क्षेत्रों के आस पास के तीर्थ क्षेत्रों की जानकारी ले सकते हैं , इससे सरलता से तीर्थ वंदना सम्पन्न होगी । आप सभी भी पाठशाला खोलो अभियान को आगे बढ़ा सकते हैं नयी पाठशाला की जानकारी हमे join.pka@gmail.com पर देकर । अभिभावक अपने आस पास की पाठशाला की पूरी जानकारी Mobile Application मे google map पर देख सकते है वह भी समय, दिन व अध्यापक के Mobile no के साथ | मोबाइल एप्लीकेशन लिंक है https://play.google.com/store/apps/details?id=abhiyaan.kholo.pathshala.jain.gmap | Website पर सभी पाठशाला की जानकारी एकत्रित है | जो लोग पाठशाला मे बच्चो को gift देना चाहते है वे सीधा website से जानकारी निकालकर भेज सकते है | वेबसाइट लिंक है http://www.jaindata.com/jain_paathshala/List.aspx । एकअंतिम बात की यह ग्रुप किसी सम्प्रदाय या समुदाय का पक्ष या विरोध नहीं करता। हम मात्र निष्पक्ष रूप से जैन संस्कारों का समर्थन करना चाहते हैं जिससे बच्चों का चतुर्मुखी विकास हो । पाठशाला की जानकारी भेजने वालो को इनाम 1 महीने के अंदर घर पर भेजा जाएगा | पाठशाला के लिए नई activity जो website http://jainintegration.com/activity/ पर नहीं है भेजने वालो की snap details के साथ activity के साथ website पेज पर डाली जायेगी | अभी तक जैन धर्म के बहुत सारे gifts जैन gift developers द्वारा बनाये गए है | जानकारी के लिए देखे http://jainintegration.com/gift/ |
हमारा एक मात्र उद्देश्य है जैन धर्म की प्रभावना …… जयजिनेन्द्र