Activity No. 25

आज की एक्टिविटी का नाम है – परीक्षा सूत्रों से
आज की एक्टिविटी में आपको सभी प्रश्नों के उत्तर अंताक्षरी की तरह प्रथम उत्तर के अंतिम अक्षर से शुरू करते हुए देना है ।सभी प्रश्न तत्वार्थ सूत्र ग्रंथ से पूछे गए है अतः प्रश्न के उत्तर में मात्र सूत्र लिखना है । प्रथम प्रश्न का उत्तर म अक्षर से शुरू होगा । जैसे –
प्रश्न – सम्यक दर्शन का लक्षण क्या है ?
उत्तर – तत्वार्थश्रद्धानम् सम्यग्दर्शनम् ।।1-2।।
आपके लिए प्रश्न हैं –
1. मूल में बंध के कारण कितने एवं कौन कौन से हैं ?
2. शुक्ल ध्यान के प्रथम दो भेदों की विशेषता को बताने वाले वीचार का लक्षण क्या है ?
3. मनुष्य लोक में दिन रात आदि का व्यवहार जिनके द्वारा होता है ।
4. जीव के पांच भावों में से एक भाव के भेद प्रभेद बताने वाला सूत्र ।
5. चौदह नदियां कौन सी किस दिशा में बहती है ?
6. वैमानिक देवों में उत्तरोत्तर क्या क्या हीनता है ?
7. व्रतधारी जीव की क्या विशेषता है ?
8. वह शरीर जो लब्धि निमित्ताक होता है ?
9. कषाय अथवा प्रमादवश किसी जीव के प्राण हरना क्या कहलाता है ?
10. निश्चय सम्यग्दर्शनादि को जानने के उपाय कौन कौन से हैं ?
11. चरित्र मोह के उदय से होने वाले परिषह कौन कौन से हैं ?
12. वह कौन सा द्रव्य है जो चेतन भी नहीं है और अरुपी भी नहीं है ?
13. लब्धि एयर उपयोग को क्या कहते हैं ?
14. ज्योतिषी देव कहाँ रहते हैं और किसकी प्रदक्षिणा देते हैं ?
15. जिनकी विराधना से 70 कोड़ा कोड़ी सागर की स्थिति वाले दर्शनमोहनीय कर्म का आस्रव हो ?
16. मन वचन काय की कुटिलता से किस कर्म का आस्रव होता है ?
17. 9-4-10-5-2 किसके भेद हैं ?
18. पद्म सरोवर में कमल कितने विस्तार का है ?
19. ममत्व परिणाम को आचार्य ने क्या कहा है ?
20. वह ध्यान जो पहले से पांचवें गुणस्थान तक होता है ?
21. सामायिक जे प्रति अनादर और सामायिक पाठ भूल जाना किस व्रत का अतिचार है ?
22. अजीव के आधार से होने वाला आस्रव कितने प्रकार का है ?
23. किसी की गुप्त बात प्रकट करना किआ व्रत का अतिचार है ?
24. उपपाद जन्म किन किन को होता है ?
25. जिनका तीनों लोकों में निवास है वे कितने प्रकार के होते हैं ?

Activity 25
आज की एक्टिविटी का नाम है – परीक्षा सूत्रों से
उत्तर
जैसे –
प्रश्न – सम्यक दर्शन का लक्षण क्या है ?
उत्तर – तत्वार्थश्रद्धानम् सम्यग्दर्शनम् ।।1-2।।
आपके लिए प्रश्न हैं –
1. मूल में बंध के कारण कितने एवं कौन कौन से हैं ?
मिथ्यादर्शनाविरति – प्रमाद कषाय योगबंधहेतवः ।।
2. शुक्ल ध्यान के प्रथम दो भेदों की विशेषता को बताने वाले वीचार का लक्षण क्या है ?
विचारोsर्थ – व्यंजनयोग – संक्रान्तिः ।।
3. मनुष्य लोक में दिन रात आदि का व्यवहार जिनके द्वारा होता है ।
तत्क्रतः काल विभागः ।।
4. जीव के पांच भावों में से एक भाव के भेद प्रभेद बताने वाला सूत्र ।
गति कषाय लिंग मिथ्यादर्शनाज्ञानासंयता सिद्ध लेश्याश्चतुश्चतु ।।
5. चौदह नदियां कौन सी किस दिशा में बहती है ?
द्वयोर्द्वयोः पूर्वाः पूर्वगाः ।।
6. वैमानिक देवों में उत्तरोत्तर क्या क्या हीनता है ?
गति शरीर परिग्रहाभिमानतो हीनाः ।।
7. व्रतधारी जीव की क्या विशेषता है ?
निः शल्यो व्रती ।।
8. वह शरीर जो लब्धि निमित्तक होता है ?
तैजसमपि ।।
9. कषाय अथवा प्रमादवश किसी जीव के प्राण हरना क्या कहलाता है ?
प्रमत्तयोगात् प्राणव्यपरोपणं हिंसा ।।
10. निश्चय सम्यग्दर्शनादि को जानने के उपाय कौन कौन से हैं ?
सत्संख्याक्षेत्र स्पर्शनकालान्तर भावाल्पबहुत्वैश्च ।।
11. चरित्र मोह के उदय से होने वाले परिषह कौन कौन से हैं ?
चारित्रमोहेनाम्न्यारती स्त्री निषद्याक्रोश याचना सत्कार पुरुष्कारः ।।
12. वह कौन सा द्रव्य है जो चेतन भी नहीं है और अरुपी भी नहीं है ?
रूपिणः पुद्गलाः ।।
13. लब्धि एयर उपयोग को क्या कहते हैं ?
लब्ध्युपयोगौ भावेन्द्रियम् ।।
14. ज्योतिषी देव कहाँ रहते हैं और किसकी प्रदक्षिणा देते हैं ?
मेरु प्रदिक्षणानित्यगतयो नृलोके ।।
15. जिनकी विराधना से 70 कोड़ा कोड़ी सागर की स्थिति वाले दर्शनमोहनीय कर्म का आस्रव हो ?
केवलिश्रुतसंघधर्मदेवावर्णवादो दर्शनमोहस्य ।।
16. मन वचन काय की कुटिलता से किस कर्म का आस्रव होता है ?
योगवक्रता विसंवादनंचाशुभस्य नाम्नः ।।
17 9-4-10-5-2 किसके भेद हैं ?
नावचतुर्दश पंचद्विभेदा यथाक्रमम् प्रागध्यानात् ।।
18. पद्म सरोवर में कमल कितने विस्तार का है ?
तन्मधयेयोजनम् पुष्करं ।।
19. ममत्व परिणाम को आचार्य ने क्या कहा है ?
मुर्छा परिग्रहः ।।
20. वह ध्यान जो पहले से पांचवें गुणस्थान तक होता है ?
हिंसानृतस्तेय विषयसंरक्षणेभ्यो रौद्रमविरतदेश विरतयो ।।
21. सामायिक जे प्रति अनादर और सामायिक पाठ भूल जाना किस व्रत का अतिचार है ?
योगदःप्राणिधानानादर स्मृत्यनुपस्थानानि ।।
22. अजीव के आधार से होने वाला आस्रव कितने प्रकार का है ?
निवर्तनानिक्षेपसंयोगनिसर्गाद्वि चतुर्द्वित्रिभेदाः परम ।।
23. किसी की गुप्त बात प्रकट करना किआ व्रत का अतिचार है ?
मिथ्योपदेश रहोभ्याख्यान कूटलेखक्रियान्यासापहार साकारमंत्र भेदा ।।
24. उपपाद जन्म किन किन को होता है ?
देवनारकाणामुपपादः ।।
25. जिनका तीनों लोकों में निवास है वे कितने प्रकार के होते हैं ?
देवश्चतुर्निकायाः ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *